Ek Radha Ek Meera एक राधा एक मीरा – Hindi Lyrics- Bhakti Sangeet

Ek Radha Ek Meera एक राधा एक मीरा




एक राधा एक मीरा दोनो ने श्याम को चाहा
अंतर क्या दोनो की चाह मे बोलो
अंतर क्या दोनो की चाह मे बोलो
इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी
इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी
एक राधा एक मीरा दोनो ने श्याम को चाहा
अंतर क्या दोनो की चाह मे बोलो
इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी

राधा ने मधुबन मे ढूँढा
मीरा ने मान मे पाया
राधा जिसे खो बैठी
वो गोविंद मीयर्रा हाथ भीगाया
एक मुरली एक पायल एक पगली एक घायल
अंतर क्या दोनो की प्रीत मे बोलो

अंतर क्या दोनो की प्रीत मे बोलो
एक सूरत लुभानी एक मूरत लुभानी
एक सूरत लुभानी एक मूरत लुभानी
इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी

मीरा के प्रभु गिरिधर नागर
राधा के मनमोहन
मीरा के प्रभु गिरिधर नागर
राधा के मनमोहन
राधा नित सिगार करे
और मीरा बन गयी जोगन
एक रानी एक दासी दोनो हरी प्रेम की प्यासी
अंतर क्या दोनो की प्रितिमे बोलो
अंतर क्या दोनो की प्रितिमे बोलो
एक जीत ना मानी एक हार ना मानी
एक जीत ना मानी एक हार ना मानी
एक राधा एक मीरा दोनो ने श्याम को चाहा
अंतर क्या दोनो की चाह मे बोलो
अंतर क्या दोनो की चाह मे बोलो
इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी
इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी
इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी

एक राधा एक मीरा दोनो ने श्याम को चाहा
अंतर क्या दोनो की चाह मे बोलो
अंतर क्या दोनो की चाह मे बोलो
इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी
इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी
एक राधा एक मीरा दोनो ने श्याम को चाहा
अंतर क्या दोनो की चाह मे बोलो
इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी

 

Random Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*