Jab se Teri Meri Mulakat ho Gyi Saare Kehte Hain ki जब से तेरी मेरी मुलाकात हो गयी – Bhakti Sangeet

 

Jab se Teri Meri Mulakat ho Gyi Saare Kehte Hain ki जब से तेरी मेरी मुलाकात हो गयी




जबसे तेरी मेरी मुलाकात हो गयी,
सारे कहते है की करामात हो गयी ।
दुनिया दीवानी मेरे साथ हो गयी,
सारे कहते है करामात हो गयी ॥

संवारे सलौने श्याम, झूम झूम गाऊ मैं
तूने क्या किया है कैसे तुझको बताऊ मैं ।
खुशियों की जैसे बरसात हो गयी है,
सारे कहते है की करामात हो गयी ॥

एक वो जमाना था, ठोर न ठिकाना था
देखते ही मुझसे आँखे, फेरता जमाना था ।
किस्मत बुलंद रातों रात हो गयी,
सारे कहते है की करामात हो गयी ॥

‘लेहरी’ दीया जो तूने, कभी न भुलाऊगा
जिंदगी ये सारी तेरी, सेवा में बिताऊंगा ।
आँखों ही आँखों में अपनी बात हो गयी,
सारे कहते है की करामात हो गयी ॥